मैं वीडियो के जरिये वेब डेवलपमेंट सिखाता हूँ और अपने विद्यार्थियों से अपनी वेबसाईट को लोकलहोस्ट के बजाए इन्टरनेट पर होस्ट करने के लिए कहता हूँ। जो लोग वेब डेवेलपमेंट सीखते हैं उनको सीखते समय ही होस्टिंग सर्विस प्रयोग करने की सलाह देने के चार कारण हैं।

कारण 1: मेरी मदद लेना आसान हो जाता है

विद्यार्थी मेरे वीडियो देखते हैं और वेबसाईट बनाते हैं। जब भी कोई दिक्कत आती है वो मुझसे सवाल पूछते हैं। अधिकतर समय, सवाल उस वेबसाईट से सम्बंधित होते हैं जो वो अभी बना रहे होते हैं। कभी-कभी बिना उनके काम को देखे उनके प्रश्न का उत्तर देना आसान नहीं होता। यदि उनकी वेबसाईट इंटरनेट पर होस्ट रहे तो मैं कभी भी उनके काम को देख सकता हूँ, भले ही वो मुझसे प्रश्न पूछें या ना पूछें। इससे मुझे यह समझने में भी आसानी होती है कि विद्यार्थी किस चीज को गलत तरीके से समझ रहे हैं या वेबसाईट बनाने में कहाँ गलती कर रहे हैं। इसलिए मैं अपने विद्यार्थियों को वेबसाईट को इन्टरनेट पर होस्ट करने के लिए कहता हूँ।

कारण 2: जरूरी बातों की समझ विकसित हो

मैं चाहता हूँ कि मेरे सभी स्टूडेंट्स प्रोफेशनल वेब डेवेलपर बनें। प्रोफेशनल वेब डेवेलपर बनने के लिए वेबसाईट डेवेलपमेंट से जुडी सभी बातों की जानकारी जरूरी है जिसमें होस्टिंग, SSH और FTP client का प्रयोग, बेसिक लाइनक्स कमांड की जानकारी, VI एडिटर और सबसे ज्यादा जरूरी गलत सर्वर की वजह से होने वाली समस्याओं को सुलझाने की क्षमता है। हालांकि मैं इन सभी चीजों को सिखाने के लिए वीडियो बनाता हूँ पर बिना होस्टिंग सर्विस के स्टूडेंट इन सभी की प्रैक्टिस नहीं कर सकते।

कारण 3: जॉब मिलने में आसानी होती है

वेबसाईट को इंटरनेट पर होस्टिंग के लिए सुझाने का तीसरा कारण है कि इससे जॉब मिलने में आसानी होती है। अधिकतर लोग इंटरव्यू के लिए एक रिज्यूमे और इंटरव्यू के प्रश्नों की तैयारी के साथ जाते हैं। मैं चाहता हूँ कि मेरे स्टूडेंट इनके साथ साथ एक वेबसाईट के बारे में बताए और इंटरव्यू पैनल को अपनी वेबसाईट दिखाए। इस वेबसाईट के जरिये इंटरव्यू पैनल आपकी योग्यता का आसानी से पता लगा सकता है जिससे आपको जॉब मिलने के अवसर बढ़ जाते हैं।

कारण 4: freelance काम मिलना आसान हो जाता है

वेबसाईट डेवेलपमेंट सीखने के बाद स्टूडेंट फ्रीलांस वर्क कर सकता है या वेबसाईट डेवेलपमेंट का व्यवसाय शुरू कर सकता है। यह करना तभी संभव है जब स्टूडेंट को डोमेन, होस्टिंग तथा वेबसाईट डेवेलपमेंट से जुडी अन्य चीजों की कीमत तथा उसमें लगने वाले समय की जानकारी हो। इन सभी चीजों की सही जानकारी लोकल होस्ट पर काम करने से नहीं आयेगी बल्कि होस्टिंग का प्रयोग करने से आयेगी।

मुझे उम्मीद है आपको पता चल गया होगा कि क्यूँ मैं अपने स्टूडेंट को अपनी वेबसाईट इंटरनेट पर होस्ट करने के लिए कहता हूँ। बहुत से होस्टिंग सर्विस प्रोवाइडर हैं जिनसे आप होस्टिंग ले सकते हैं पर समस्या यह है कि मेरे बहुत से स्टूडेंट होस्टिंग के मूल्य को चुका नहीं सकते। डोमेन नेम की चिंता करने की तो जरूरत ही नहीं है क्यूंकि आप कभी भी एक साल के लिए मुफ्त में डोमेन नेम ले सकते हैं। अपने विद्यार्थियों को कम कीमत में होस्टिंग देने के लिए आजकल मैं एक VPS तैयार कर रहा हूँ, और साथ ही एक गाइड “कम कीमत की होस्टिंग सर्विस कैसे प्रदान करें” भी तैयार कर रहा हूँ।

कृपया अपने सुझाव तथा विचार कमेन्ट में लिखें, धन्यवाद।


Ph.D. (IIT Bombay), M.Tech., B.Tech. (CSE) Dr. Yogendra Pal finished his Ph.D. from Educational Technology department at IIT Bombay. Mr. Pal holds B.Tech. and M.Tech. Degrees in Computer Science and Engineering. His interests include programming, web development, graphic design and educational technology.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.