संतृप्त विलयन – क्या पानी घुलनशील पदार्थ की कितनी भी मात्रा को घोल सकता है?

0
343

आज वंदना ने मुझे एक साइंस के प्रयोग को लेकर चुनौती दी। उसकी चुनौती की वजह से मैं संतृप्त विलयन के बारे में जान पाई।

विज्ञान सम्बंधित चुनौती

उसका कहना था कि यदि पानी की मात्रा निश्चित हो तो उसमें चीनी भी निश्चित मात्रा में ही घोल सकते हैं जबकि मेरा कहना था कि पानी की मात्रा निश्चित हो तो भी उसमें बहुत सारी चीनी घुल जाएगी।

आपको क्या लगता है?

हम में से कौन जीता होगा?

साइंस प्रयोग

इस प्रश्न का उत्तर पता करने के लिए हमने एक गिलास में पानी लिया और एक कटोरी में थोड़ी सी चीनी ली।

एक गिलास पानी और थोड़ी सी चीनी

उसके बाद हम गिलास में चीनी को डाल कर घोलते रहे।एक चम्मच चीनी पानी में घुल गयीकुछ चम्मच चीनी तो पानी में आसानी से घुल गयी, ऐसा लग रहा था कि मैं ही जीतूंगी, पर फिर चीनी ने पानी में घुलना बंद कर दिया। नीचे गिलास में देखिये, क्या आपको भी बिना घुली हुई चीनी दिखाई दे रही है?पानी में चीनी घुलना बंद हो गयी

इस तरह में हार गयी 🙁 पर कोई बात नहीं ऐसा तो हमारे साथ होता ही रहता है। अब मुझे यह पता चल गया कि-

पानी की निश्चित मात्रा एक निश्चित मात्रा में ही चीनी को घोल सकती है

मुझे लगता है कि सिर्फ चीनी ही नहीं बल्कि कोई भी घुलनशील पदार्थ, पानी में एक निश्चित मात्रा में ही घुलेगा।

क्या आप मेरे लिए यह करेंगे?

आप नमक, बूरे या खाने वाले सोडे के साथ टेस्ट कीजिये और मुझे कमेंट में बताइये कि आपका अनुभव कैसा रहा। इससे मुझे विज्ञान को समझने में मदद मिलेगी।

आप नमक, बूरा और खाना सोडा के साथ कोशिश कीजियेसंतृप्त विलयन

वंदना ने बताया कि जब पानी में चीनी घुलना बंद हो गयी तो जो पानी और चीनी का विलयन बना वह “संतृप्त विलयन” कहलाता है। मुझे कभी समझ नहीं आया कि विज्ञान में इतने कठिन शब्द क्यूँ इस्तेमाल किये जाते हैं। लेकिन मैं भी याद रखने का तरीका ढूंढ ही लेती हूँ।

जिस तरह हम लोग भरपेट खाना खाकर तृप्त हो जाते हैं वैसे ही जब कोई विलयन भरपेट घुलनशील पदार्थ खा लेता है तो उसको “संतृप्त विलयन” कहते हैं

आज मैंने क्या-क्या सीखा?

  • यदि पानी की मात्रा निश्चित हो तो उसमें घुलनशील पदार्थ की भी एक निश्चित मात्रा ही घुलेगी
  • पानी में जब कोई घुलनशील पदार्थ मिला दिया जाता है तो उस घोल को विज्ञान की भाषा में विलयन कहते हैं
  • विलयन में जब और घुलनशील पदार्थ नहीं घुल सकता तो वह विलयन, संतृप्त विलयन कहलाता है

बहुत सारे सवाल हैं

बहुत सारे सवाल हैंमेरे दिमाग में बहुत से सवाल हैं, जैसे कि “पानी में कैसे कोई पदार्थ घुल जाता है?”, “घुल जाता है तो फिर घुलना रुक क्यूँ जाता है?” मैं इन सभी सवालों के उत्तर क्लास में टीचर से पूछूंगी। आपके पास भी कुछ सवाल है तो कमेन्ट में बताइए मैं उनके बारे में भी पूछूंगी और जैसे ही उत्तर पता चलेगा इस वेबसाईट में लिख दूंगी।


कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.